होम Governess हनुमानगढ / जिले भर में ब्लॉक वाइज बनाए जा रहे हैं क्वारंटाइन...

हनुमानगढ / जिले भर में ब्लॉक वाइज बनाए जा रहे हैं क्वारंटाइन सेंटर, 500 से ज्यादा बैड की होगी क्षमता

241
  • जिले भर में ब्लॉक वाइज बनाए जा रहे हैं क्वारंटाइन सेंटर, 500 से ज्यादा बैड की होगी क्षमता
  • किसान भवन में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर का जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने किया निरीक्षण
  • जयपुर से आए चिकित्सा विभाग के जिला प्रभारी अधिकारी डॉ मोहम्मद रफ़ीक भी रहे साथ
  • हनुमानगढ़ में अब तक एक भी कोरोना पोजिटिव मरीज नहीं

हनुमानगढ़ । हनुमानगढ़ जिले में अब तक एक भी कोरोना पोजिटिव मरीज नहीं पाया गया है। जंक्शन स्थित ज्योतिबा फूले छात्रावास की जिस छात्रा को कोरोना संदिग्ध माना गया था। उसकी रिपोर्ट शनिवार को नेगेटिव आई तो प्रशासन ने भी राहत की सांस ली। दरअसल छात्रावास में 62 अन्य छात्राओं को भी एक कोरोना संदिग्ध छात्रा के चलते रोक कर रखा गया था। इस बीच डबली में जनवरी माह में विदेश से आए परिवार को होम आइसोलेशन में रखा गया है। मेडिकल टीम उनकी निगरानी कर रही है। कजाकिस्तान से आए जंक्शन के एक व्यापारी को भी होम आइसोलेशन में रखा गया है। इन सभी में कोरोना वायरस के कोई लक्ष्ण नहीं पाए गए हैं। वहीं जयपुर से आए एक पेंटर के खांसी जुकाम से पीड़ित होने और सांस लेने में तकलीफ होने की शिकायत मीडिया के जरिए मिलने पर मेडिकल टीम ने उसके घर जाकर चैक किया। उसे कोरोना संदिग्ध नहीं माना गया।

जिले भर में बनाए जा रहे है क्वारंटाइन सेंटर, 500 से ज्यादा बैड की होगी व्यवस्था

जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन के निर्देश पर जिले भर में जिला मुख्यालय और ब्लॉक मुख्यालय पर क्वारंटाइन सेंटर बनाए जा रहे हैं। जिला कलक्टर ने बताया कि जिले में हर तहसील मुख्यालय पर 50-50 बैड के क्वारंटाइन सेंटर बनाए जा रहे हैं। इसके अलावा जिला मुख्यालय में करीब 300 बैड की व्यवस्था की गई है। जिसमें क्वारंटाइन सेंटर के रूप में अधिगृहित किए गए जाट कन्या छात्रावास में 150, स्वामी विवेकानंदर शिक्षण संस्थान शेरगढ़ में 100 और किसान भवन में 50 बैड की व्यवस्था की गई है। जिला कलक्टर ने शनिवार शाम जंक्शन के किसान भवन में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर का निरीक्षण किया। इस दौरान उनके साथ चिकित्सा विभाग की ओर से कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते जिला प्रभारी के रूप में लगाए गए मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के नोडल अधिकारी डॉ मोहम्मद रफीक, पीएमओ डॉ एम पी शर्मा, सीएमएचओ डॉ अरूण चमड़िया, आरसीएचओ डॉ विक्रम सिंह, कृषि उपज मंडी सचिव श्री सीएल वर्मा समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे। जिला कलक्टर ने किसान भवन में क्वारंटाइन सेंटर में व्यवस्थाएं और दुरूस्त करने के निर्देश दिए।

कोरोना वायरस के चलते डॉ मोहम्मद रफीक को बनाया गया है जिला प्रभारी चिकित्सा अधिकारी

वायरस के संक्रमण के चलते चिकित्सा विभाग ने सभी जिलों में कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर सभी आवश्यक व्यवस्थाओं की निगरानी के लिए जिला प्रभारी चिकित्सा अधिकारी नियुक्त किए हैं। मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के नोडल अधिकारी डॉ मोहम्मद रफीक को हनुमानगढ़ जिला प्रभारी बनाया गया है। डॉ रफीक ने शनिवार को जिला कलक्टर के साथ मुलाकात कर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर अब तक की गई कार्यवाही की समीक्षा की। जिला कलक्टर ने बताया कि पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मीडिया के साथ अच्छा आपसी समन्वय रखते हुए कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर जुटे हुए हैं। किसी तरह की कोई कोताही नहीं बरती जा रही है। कोई भी समाचार मिलने पर तुरंत कार्रवाई की जा रही है।

दवा, दूध, सब्जी, फल इत्यादि की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी- कलक्टर

जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने बताया कि रविवार को जनता कर्फ्यू के चलते आवश्यक सेवाओं को बहाल रखा जाएगा। डेयरी एमडी श्री पीके गोयल को जिला कलक्टर ने फोन कर सेवा बहाल रखने के निर्देश दिए। इसके अलावा जिला कलक्टर ने फल, सब्जी व्यापार संघ के पदाधिकारियों से भी बात कर इसकी कोई कमी नहीं होने देने को लेकर दिशा निर्देशित किया। साथ ही कहा कि बाजार में सब्जियों और फलों के भाव अनावश्यक रूप से ना बढ़ाए जाएं। जिला रसद अधिकारी को भी जिला कलक्टर ने इसको लेकर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए।

आइसोलेशन वार्ड में बैड की संख्या 5 से बढ़ाकर 10 की

पीएमओ डॉ एमपी शर्मा ने बताया कि जिला अस्पताल में बनाए गए थ्री बेरियर आइसोलेशन वार्ड में 5 बैड थे। जिनकी संख्या एहतियात के तौर पर बढ़ाते हुए 10 की है। आइसोलेशन वार्ड को लेकर तमाम व्यवस्थाएं माकूल है। इसके अलावा कोरोना वायरस से संबंधित सेंपलिंग, डिस्इन्फेक्शन इत्यादि हेतु आवश्यक लॉजिस्टिक पर्याप्त मात्रा में हैं।

जिला अस्पताल में सेंपलिंग, डिस्इंफेक्शन के लिए सभी आवश्यक लॉजिस्टिक उपलब्ध

पीएमओ ने बताया कि जिला अस्पताल में कोरोना वायरस से संबंधित सेंपलिंग, डिस्इन्फेक्शन इत्यादि हेतु आवश्यक लॉजिस्टिक पर्याप्त मात्रा में हैं। इसमें 4 पीपीई किट जिसे पहन पर सेंपलिंग की जाती है, वीटीएम 42, के अलावा ट्रिपल लेयर मास्क, सोडियम हाइपो क्लोराइट सोल्यूशन समेत सभी आवश्यक लॉजिस्टिक पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है।