होम Politics गुजरात का गणित / राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के 5 विधायकों...

गुजरात का गणित / राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के 5 विधायकों ने इस्तीफा दिया, पार्टी ने 14 विधायकों को जयपुर भेजा

30

गुजरात विधानसभा में कुल सीटें 180; भाजपा गठबंधन के पास 106, कांग्रेस के पास जिग्नेश मेवाणी समेत 69 विधायक भाजपा ने अभय भारद्वाज, रमीवा बेन बारा, नरहरि अमीन और कांग्रेस ने शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी प्रत्याशी बनाया

गांधीनगर/जयपुर. गुजरात में राज्यसभा की 4 सीटों के लिए 26 मार्च को होने वाले चुनाव में कांग्रेस हॉर्स ट्रेडिंग को लेकर चिंतित है। बदलते घटनाक्रम के बीच रविवार को कांग्रेस के 5 विधायकों प्रवीण मारू, मंगल गावित, सोमाभाई पटेल, जेवी काकड़िया और प्रद्युम्न जडेजा ने इस्तीफा दे दिया है। 

इससे पहले कांग्रेस ने हॉर्स ट्रेडिंग के डर से 14 विधायकों को जयपुर भेज दिया। 36 और विधायकों को भी राजस्थान भेजा जा सकता है। सभी विधायकों को एक रिजॉर्ट में ले जाया गया है। विधायकों को मोबाइल न रखने की हिदायत दी गई है। वे परिवार या परिचित से मुलाकात भी नहीं कर सकते। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार को कांग्रेस हाईकमान सबसे सुरक्षित मानकर चल रही है।

कांग्रेस: सभी 73 विधायकों को सुरक्षित रखने की यह प्लानिंग

  • 14 विधायक जयपुर भेजे। 36 और विधायकों को राजस्थान भेजा जाएगा। संभव है ये विधायक उदयपुर शिफ्ट किए जाएंगे।
  • अन्य 5 विधायकों को गुजरात में ही एक रिजॉर्ट में ले जाया जाएगा।
  • 15 से 18 विधायक गुजरात में रहेंगे और विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेंगे।

ये 14 विधायक पहुंचे राजस्थान
लखाभाई भरवाड़ (वीरमगाम), पूनम परमार (सोजित्रा), जिनी बेन ठाकुर (वाव), चंदनजी ठाकुर (सिद्धपुर), रित्विक मकवाना (चोटिला), चिराग कालरिया (जामजोधपुर), बलदेव ठाकुर (कलोल), नाथाभाई पटेल (धनेरा), हिम्मतसिंह पटेल (बापूनगर), इंद्रजीत ठाकुर (महुधा), राजेश गोहिल (ढांढुका), हर्षद रिबदिया (विसावदर), अजीत सिंह चौहान (बालासिनोर) और कांति परमार (ठासरा) शामिल हैं।

भाजपा और कांग्रेस, दोनों जीत का दावा कर रहे
गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने शुक्रवार को कहा था कि कांग्रेस ने पाटीदार उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया और पार्टी में आपसी गुटबाजी भी है, इसका फायदा भाजपा को मिलेगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि भाजपा तीनों सीटें जीतेगी। उधर, कांग्रेस नेता भरत सिंह सोलंकी ने कहा है कि राज्यसभा चुनाव में भाजपा को मुंह की खानी पड़ेगी।

अगर कांग्रेस के 5 विधायकों के इस्तीफे स्पीकर ने मंजूर किए तो…
गुजरात विधानसभा में सीटें
 = 180
5 विधायकों के इस्तीफे के बाद बची सीटें = 175
भाजपा+ (भाजपा 103+ 1 राकांपा + 2 भारतीय ट्रायबल पार्टी)= 106
कांग्रेस+ (कांग्रेस 68+1 जिग्नेश मेवाणी) = 69
गुजरात में राज्यसभा की कितनी सीटों पर चुनाव = 4
गुजरात में राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए जरूरी = 36


तीन समीकरण, भाजपा का पलड़ा भारी
भाजपा ने अभय भारद्वाज, रमीवा बेन बारा और नरहरि अमीन को प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को उम्मीदवार बनाया है।

  • पहला समीकरण : भाजपा 2 और कांग्रेस 1 सीट आसानी से जीत लेगी। 
  • दूसरा समीकरण : अगर कांग्रेस के 2 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग कर दी तो भाजपा 3 सीटें जीत लेगी। भाजपा के पास 106 विधायक हैं। 3 राज्यसभा सीटें जीतने के लिए उसे 2 और वोट चाहिए जो उसे क्रॉस वोटिंग करने वाले 2 विधायकों से मिलेंगे।
  • तीसरा समीकरण : अगर किसी विधायक ने क्रॉस वोटिंग नहीं की तो भी भाजपा के तीसरे उम्मीदवार के पास जीत के लिए जरूरी 36 वोटों से भी ज्यादा कुल 72 वोट होंगे। ये वोट दूसरी वरीयता वाले होंगे। कांग्रेस उम्मीदवार के पास दूसरी वरीयता वाले वोट 36 ही रहेंगे। ऐसे में वोटों की संख्या भाजपा के पास ज्यादा होने की वजह से उसका तीसरा उम्मीदवार भी जीत सकता है।

2017 जैसे हालात
2017 में गुजरात की 3 राज्यसभा सीटों के चुनाव के वक्त भी ऐसे ही हालात बने थे। अहमद पटेल की जीत तय करने के लिए कांग्रेस ने अपने विधायकों को कर्नाटक भेज दिया था। कुछ विधायकों ने क्रॉस वोटिंग भी की थी। हालांकि, अहमद पटेल जीत गए थे।