लाॅकडाउन/ राजस्थान के इस जिलें में लगा है भारत का पहला महा कर्फ्यू! सारे पास निरस्त

76

भीलवाड़ा: कोरोना के हॉटस्पॉट बन चुके भीलवाड़ा में देश का पहला महा कर्फ्यू लागू कर दिया गया है. महा कर्फ्यू का आज पहला दिन है और यह 13 अप्रैल तक रहेगा. कोई भी घरों से बाहर नहीं निकल सकेगा. जरूरी सामान की आपूर्ति की प्रशासन को सूचना देने पर होगी.

इधर, लोगों के अनुशासन और संयम का नतीजा है कि जिले में पिछले चार दिन में किसी भी संदिग्ध की सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई. चार दिनों में अब तक जितनी भी रिपोर्ट आई वे सभी निगेटिव थी.
अच्छी खबर यह है कि 26 पॉजिटिव केसों में से 17 की तीसरी रिपोर्ट भी नेगिटिव आई है.
डॉक्टर्स की टीम भी लगातार मेहनत करके कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ठीक कर रही है. इसलिए 13 अप्रैल तक ऐसी सोशल डिस्टेंसिंग रखनी है ताकि कोराना नहीं फैले और इसकी चेन को तोड़ा जा सके.

अब तक 26 में से 2 पॉजिटिव मरीजों की मौत हो चुकी हैं. शेष रहे 24 में से 17 की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया. अब 9 मरीज ही पॉजिटिव बचे हैं, जो एमजी हॉस्पिटल में भर्ती हैं. जयपुर में भर्ती डॉक्टर दम्पति की रिपोर्ट भी गुरुवार को निगेटिव आई थी. अब जयपुर में भर्ती भीलवाड़ा के चारों पॉजिटिव मरीज की रिपोर्ट निगेटिव हो चुकी है. कर्फ्यू के 14 वें और देश में महा कर्फ्यू लागू करने वाले पहले शहर बने भीलवाड़ा की सड़कों पर खुद पुलिस अधीक्षक हरेन्द्र कुमार महावर दल बल के साथ उतरे और शेरों-शायरी के बीच लोगों से घरों में ही रहने की अपील की.
एसपी महावर ने बताया कि सुरक्षा व्यवस्था में पुलिस, आरएसी, होमगार्ड और एसडीआरएफ के 3 हजार जवान लगाए गए हैं. इसके साथ ही बाइक सवार 50 पुलिसकर्मियों के साथ ही विभिन्न वाहनों में काफिले ने शहर ने रूट मार्च भी किया. उन्होंने कहा कि महा कर्फ्यू के दौरान बेहद जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों एवं वाहनों को ही निकलने की अनुमति दी गई. इसके लिए पहले से बने उनके पास मान्य होंगे बाकी कर्फ्यू के दौरान जारी किए गए सभी पास को कैंसिल कर दिया गया है.

शहर में सरस डेयरी के 324 बूथों के माध्यम से घर-घर दूध पहुंचाने की व्यवस्था की गई हैं. सभी बूथों पर आलू-प्याज भी मिलेंगे. सब्जियों के लिए वाहन लगाए गए हैं, जो निर्धारित टाइम टेबल के मुताबिक कालोनियों में पहुंचेंगे. वहां सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लोग खरीदी कर सकेंगे. राशन भी इसी तरह से लोगों के दरवाजे तक पहुंचाया जाएगा. महा कर्फ्यू के तहत शहर की सड़कों पर पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ है. जरूरी काम के बहाने सड़कों पर तफरी करने निकलने वाले लोगों पर अब पुलिस ने सख्ती की तैयारी कर ली है. आने वाले 10 दिन यानी 240 घंटे शहरवासियों के पूरी तरह अपने घरों में कैद रहना है, ताकि इस कोरोना से जंग को जीता जा सके.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें