होम Editor Choice देवासर गांव में विद्यालय का लोकार्पण

देवासर गांव में विद्यालय का लोकार्पण

126
  • अब स्कूल शिक्षा का गांव में ही मिलेगा लाभ
  • 12 वीं के विद्यालय का किया लोकार्पण
  • बीच में नहीं छोडऩी होगी पढ़ाई

पल्लू. शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा गांव देवासर में 12 वीं कक्षा तक विद्यालय क्रमौन्त होने के बाद शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा नहीं रहेगा। अब गांव में ही सरकारी विद्यालय में १२ वीं तक की पढ़ाई गांव के बच्चें व बेटियां आसानी से पढ़ाई कर सकेगें। इससे पहले १० वीं के बाद शिक्षा के लिये उन्हें गांव से बाहर जाना पड़ता था। बुधवार को क्रमौन्नत हुए राजकीय विद्यालय का लोकार्पण बुधवार को नोहर विधायक अमित चाचाण ने किया। उनके साथ अतिरिक्त ब्लॉक शिक्षा अधिकारी मनोज आर्य सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौजदू थे।

इस दौरान सोशल डिस्टेसिंग की पालना करते हुए एक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। ग्रामीणों ने विधायक को गांव की समस्याओं से रूबरू करवाते हुए कहा कि इस गांव में पेयजल की भारी किल्लत है ऐसे में कलस्टर निर्माण करवाकर घर-घर कनेक्शन दिलाकर समस्या से निजात दिलाये। वहीं कल्लासर और देवासर माईनर के टेल तक सिंचाई विभाग की लापरवाही से सिंचाई पानी नहीं पहुंच रहा जिससे किसानों की फसलें बर्बाद हो गई है। इस का समाधान करवाये ताकि किसानों को नुकसान ना हो। वहीं देवासर को ग्राम पंचायत मुख्यालय तक जोडऩे के लिये कानसर तक सडक़ निर्माण करवाकर कच्चे रास्ते से छुटकारा दिलाने की मांग भी ग्रामीणों ने की। इस पर विधायक चाचाण ने बताया कि शिघ्रता से समस्याओं का निराकरण किया जायेगा। और विद्यालय में इस कार्यकाल में पर्याप्त कमरें देने व स्टाफ लगाने की बात कही। उन्होंने विधायक कोष से एक कमरा निर्माण शिघ्र शुरू करवाने की घोषणा की।

विधायक अमित चाचाण ने कहा कि देवासर में विकास की कमी नहीं आने दी जायेगी। इस मौके पर वहां मौजूद बिजली कार्मिकों को विधायक ने गांव में शिघ्र बिजली लाईने दुरूस्ती करण करने तथा समस्या समाधान कर उन्हें रिपोर्ट पेश करने की बात कही। सिंचाई पानी की कम सप्लाई पर विधायक ने खुद कल्लासर माईनर की टेल पर पहुंचकर पानी सप्लाई देखी । इस दौरान सिंचाई विभाग के उच्चाधिकारियों से बात करके पानी पुरा करने की बात कही।

पूर्व जिला परिषद गोरीशंकर थोरी ने बताया कि देवासर गांव काफी पिछड़ा हुआ था यहां उच्च माध्यमिक विद्यालय मिलना बड़े सौभाग्य की बात है। यहां विद्यालय नहीं होने के कारण यहां बहनों को पढ़ाई बीच में छोडऩी पड़ती थी जो अब नहीं छोडऩी पड़ेगी। प्रधानाध्यापक छोटुराम ने कहा कि इससे पहले प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली बालिकाएं भी पढ़ाई छोडऩे पर मजबूर हो जाती थी ऐसें में ये क्रमौन्नत विद्यालय उनके लिये सौगात बनकर आया है। इस दौरान खुईयां नायब तहसीलदार विनोद मीणा, खुईयां थानाधिकारी हरबंस सिंह, कृषि अधिकारी रामकुमार स्वामी, सोहन ढि़ल, सरपंच लालगर, सहकारी समिति अध्यक्ष रामगिर, पल्लू सरपंच प्रतिनिधि देवकी नंदन जोशी, विजय सिंह, मुन्शीराम भाखर, पतराम सिहाग, रेवंत ज्याणी, भीम डीलर सहित अन्य जनप्रतिनिधि एंव ग्रामीण तथा विद्यालय स्टाफ मौजूद रहा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here